Tuesday, October 27, 2020

वक्त हो तो बैठो

वक्त हो तो बैठो
दिल की बात करूँ....
कुछ नमी हो आंखों में
तो दिल की बात करूँ...
तुम क्या जानो,
अरसा बीता,
दिल की कोई बात नहीं की,
कहाँ से टूटा
कितना टूटा-
किसी को ना बतला पाई,
रिश्तों के संकुचित जाल में
दिल की धड़कनें गुम हो गईं !
पैसों की लम्बी रेस में
सारे चेहरे बदल गए हैं
दिल की कोई जगह नहीं है
एक बेमानी चीज है ये !
पर मैंने हार नहीं मानी है
दिल की खोज अब भी जारी है....
वक्त है गर तो बैठो पास
सुनो धड़कनें दिल की
इसमें धुन है बचपन की
जो थामता है -रिश्तों का दामन
फिर.............
वक्त हो तो बैठो,
दिल की कोई बात करूँ............

रश्मि प्रभा



IF HAVE TIME

If have time
Let us sit toghther
And talk.
If have something inside ,
Let it come out. 

It was long back 
When we shared our mind.
What went wrong
When and from where
I couldn't say anyone.

I got so engaged
In life's mortal relationships
That I become a fish in the net.
I couldn't find myself,
I couldn't hear my soul,
I got totally lost.

,

When money
Took the centre stage,
The face of the world changed,
Love turned meaningless,
Deliberately kept behind.

But I havn't left the ground,
I am still searching
The thread that unites,
person to person,
person to soul.

And listen to my heart
Where lies my childhood,
My dreams,my ties
With nature and others.

Let us sit together
Once again
For a while
And listen to the music of life

 

बस अब और नहीं.......

वर्षों तुम सबने

हमारे भरोसे का खून किया,

बुद्ध और गांधी की धरती को

बेवजह रक्त-रंजित किया,

हल-फिलहाल भी ऐसा ही किया ।


बहुत हो लिया ,

तुम्हारा विस्तारवाद का खेल,

आतंकवाद से मेल,

अब और नहीं......... 

 

आज के बाद 

हम कबूतर नहीं उड़ाऐंगे,

बाज उड़ाऐंगे,बाज

जिसमें धमक होगी

धमनियों में बहते गर्म लहू की,

परवाज़ में जिसके होगी

बिजलियों की कड़क,

प्रतिरोध में ताकत चट्टानों की।


दबाव और आतंक के साये में 

अमन की बात नहीं दोहराएंगे।

 

अब हम केवल प्रतिकार नहीं करेंगे,

प्रतिशोध लेंगे, प्रतिशोध,

फिंगर और टॉप पर सवार होकर

बज्र से भी कठोर आघात करेंगे।


अब चैन से नहीं बैठेंगे

प्रतिघात करेंगे, 

भीषण प्रतिघात,

धरती की क्या करते हो बात

समंदर की तूफानी लहरों पर भी

दौड़ लगाएंगे, दौड़।

ढूँढेंगे हर तरह के जहरीले तीर,

तुम्हारे लिए

उसे सजाएँगे

अपने तरकश में ।

 

बहुत कर लिया इलाज

तुम्हारे दिये जख्मों का,

बहुत सह लिया दर्द,

अब मरहम नहीं लगाएंगे,

अपने घावों को नहीं सहलाएंगे,

सूखते घावों खुरच-खुरचकर

फिरसे हरा बनाएँगे।


सूखने नहीं देंगे 

अपने आंसुओं को  

ज्वालामुखी का धधकता लावा बनाएँगे,

किनारा तोड़ बहा ले जाने को आतुर

उफनती नदी की

विध्वंसक धार बनाएँगे।

 

खून से लथ-पथ शहीदों की तस्वीर

अपने घरों की दीवारों पर सजाएँगे,

उनकी गर्जनाओं को

अपने कानों में बसाएँगे।


जितने हमने अपने खोये,

जितने हमने आंसु रोये

उनको हर-पल रखेंगे याद।


अब मोमबत्ती नहीं

मशाल जलाएंगे

शिव के धरा-धाम कैलाश में

डमरू की आवाज पर

तांडव मचाएंगे,तांडव।

 

अब नहीं होगी गांधी-नेहरू की बात,

ना ही भेजी जाएगी पंचशीली सौगात,

अतीत अब हावी नहीं हो पाएगा

हमारे वर्तमान पर।


अपनी उस बेबसी को

नहीं देंगे कोई नाम,

नहीं बनाएँगे अब इसे, 

अपने जीने का अंदाज। 

 

बेशक आगाज किया है तुमने

अंजाम तक इसे हम ले जाएंगे,

बहुत हो गया सब्र का इम्तिहान,

तोड़ डालेंगे तुम्हारे बनाए सारे बाँध        

तुमको भी बहा ले जाएंगे।

 

अब तो हमारा पथ होगा अग्नि-पथ 

और हम उसके पथिक बन जाएंगे,

हिंसा को ही बनाएँगे अहिंसा का हथियार 

अब तो बस प्रहार करेंगे,प्रहार।

       राजीव(01/09/2020)


MUCH WATER HAS FLOWN NOW

Hear it loud and clear:

Enough is enough.

Now there in no chance of change

In your foxy attitude,

Your deceitful and purposive aggression.

You are the reason

Of the nasty bloodshed

On the land of Buddha and Gandhi.

But listen carefully,

Now we will not walk with the lambs

In the soft grassy land,

We’ll prefer to sit

On the back of a slouching tigress

With armours and arms

Of our choice.

 

His roar would be thunderous

Full of fury and fire,

And reaction would be lightening fast.

We’ll not fly pegions now

When smoke of terror and agression

Is all around.

 

We’ll fight,

Fight to the end

With the rocky will.

What to talk of land,

We’ll conquer the seas

And penetrate the limits of sky,

Take our revenge to the next level.

Hitting them hammer hard.

 

We have applied

Many layers of treatment

To our wounds

That you gave time and again.

But from now on

We’ll not use any ointment,

Nor would like to nurture them gently.

We’ll keep scratching

The healing wounds

To the level of burning pain,

And make them remind

Of what we were afflicted upon

And what we are going through

Even today.

 

We’ll not let our mind forget

Those painful tears,

We’ll permit ourselves to turn

Into a red hot volcanic blow

And burn down enemy camps.

 

We’ll hang the pictures

Of our martyres on every wall,

We’ll save their gallant roars

In the air, water and land,

And count

Every casualties we suffred,

Triclour wrapped every coffins,

The pain and pangs

Of the families and friends.

But now on

We’ll not take out a candle march,

And we’ll not lament our past.

We’ll move with a torch

To light/lit-up our spirit

 

Now there won’t be Gandhi’s “Non-violnce’’,

Nor would be Nehru’s ‘’Panchsheel’’.

Aggression will be the seed of success.

We will slouch towards enemy

And pounce upon every moment.

 

No doubt,

You have grossly misadventured then,

You have grossly misadventured now.

But be ready to face

Our well orchestrated

Music of adventure.

 

You have earlier tested

Our Himalayan resolve,

Now you will taste

Our calamitous wrath,

Or bear the avelanch

Of impatience

Sweeping you down

To nowhere.

Now we are on the path of fire

Violence is the weapon of peace.


Thursday, October 15, 2020

 

गौरेया

      सालों बाद

आज

सुबह-सवेरे

घर के दरवाजे पर

गौरेया का जोड़ा

फुदक-फुदक कर

चहक रहा था


मानों कह रहा हो 

तुम्‍हारे बिना मन नहीं लगा

तो फिर मिलने चले आए 

तुमसे,

चाहते हैं कुछ दिन रहना

तुम सबके साथ। 


मैं भी तो मन से यहीं चाहता था,

उन्‍हें बताता मैं कैसे

अपने मन की बात

भरोसे का कत्‍ल तो 

हमने ही किया था। 

 

दौड़कर मैं 

घर के भीतर गया

कटोरे में 

चावल के दाने भर लाया

कटोरा जब उनके सामने रखने लगा

वे उड़कर दूर जा बैठे।

कटोरा बीच सड़क पर रख

मैं अलग हो गया

उन्‍हें भरोसा नहीं हो रहा था।


सतर्क निगाहों से

शंका मुक्‍त होने के बाद

दोनों चुगने लगे थे दाना 

मैं समझ रहा था सारी बात

पर कैसे उन्‍हें विश्‍वास दिलाता

सब एक से नहीं होते। 

गौरेया भी समझ रही थी 

शायद मेरी बात  ।

 

अब तो दोनों रोज आने लगे

थोड़ा पास भी आने लगे

घर के दरवाजे के ऊपर

घास-फूस जमा कर

घोसला बनाने लगे

उनकी एक-एक हरकत

मन को हर्षाती,

मन का कोना-कोना

उमंग से भर जाती थी।

 

कुछ दिनों बाद अंडे

फिर धीरे-धीरे परदार होते

बेपरदार चूजे

पांचों का घोसला में होना

महानगरों के जीवन का आईना थे

लेकिन कौए तो हर जगह होते है

एक दिन गौरेये के चूजे ले उड़े

विश्‍वास फिर घात का शिकार हो गया

घोसला खंडहर में बदल गया

कुछ दिन तक तो आते रहे दोनों

बैचेन से ढूंढते रहे कुछ

मैंने भी एक मजबूत, सुरक्षित 

घोसला बनाकर रखा था

लेकिन भरोसे की जमीन नहीं दे पाया। 

 

धीरे-धीरे गौरेया ने आना छोड़ दिया।

इंसानी बस्‍ती में चहचहाना छोड़ दिया।

अब तो बस हम हैं

गौरेयों का घोसला है

बस  .....   (05/04/2020)