Tuesday, October 27, 2020

वक्त हो तो बैठो

वक्त हो तो बैठो
दिल की बात करूँ....
कुछ नमी हो आंखों में
तो दिल की बात करूँ...
तुम क्या जानो,
अरसा बीता,
दिल की कोई बात नहीं की,
कहाँ से टूटा
कितना टूटा-
किसी को ना बतला पाई,
रिश्तों के संकुचित जाल में
दिल की धड़कनें गुम हो गईं !
पैसों की लम्बी रेस में
सारे चेहरे बदल गए हैं
दिल की कोई जगह नहीं है
एक बेमानी चीज है ये !
पर मैंने हार नहीं मानी है
दिल की खोज अब भी जारी है....
वक्त है गर तो बैठो पास
सुनो धड़कनें दिल की
इसमें धुन है बचपन की
जो थामता है -रिश्तों का दामन
फिर.............
वक्त हो तो बैठो,
दिल की कोई बात करूँ............

रश्मि प्रभा



IF HAVE TIME

If have time
Let us sit toghther
And talk.
If have something inside ,
Let it come out. 

It was long back 
When we shared our mind.
What went wrong
When and from where
I couldn't say anyone.

I got so engaged
In life's mortal relationships
That I become a fish in the net.
I couldn't find myself,
I couldn't hear my soul,
I got totally lost.

,

When money
Took the centre stage,
The face of the world changed,
Love turned meaningless,
Deliberately kept behind.

But I havn't left the ground,
I am still searching
The thread that unites,
person to person,
person to soul.

And listen to my heart
Where lies my childhood,
My dreams,my ties
With nature and others.

Let us sit together
Once again
For a while
And listen to the music of life

No comments:

Post a Comment